सफलता का कोई शॉटकर्ट नहीं : केरल के छोटा रफी

कोझिकोड (केरल), 22 सितंबर (आईएएनएस)। कोरोनाकाल की इस अनिश्चित घड़ी में प्रतिभाशाली युवक सौरभ किशन ने अपनी बेहतरीन आवाज से लोगों को कुछ हद तक राहत पहुंचाई है।

सौरभ पिछले लगभग एक महीने से इंटरनेट सनसनी बने हुए हैं। मोहम्मद रफी के गाने गाकर वह इन दिनों सोशल मीडिया पर छाए हुए हैं। लोगों पर सौरभ की आवाज का जादू कुछ इस कदर चला कि मशहूर उद्यमी आनंद महिंद्रा उन्हें छोटा मोहम्मद रफी तक कहकर बुलाने लगे।

दरअसल, मोहम्मद रफी के लोकप्रिय गीत तेरी आंखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है को सौरभ द्वारा पोस्ट किए जाने के बाद एकाएक लोगों की निगाहें उन पर जाकर टिक गईं।

23 वर्षीय सौरभ से जब आईएएनएस ने बात की, तो उन्होंने कहा, रफी साहब की अपनी एक अलग विशिष्टता है और मैं चाहता हूं कि मेरी अपनी एक खासियत हो।

दस साल की उम्र से छोटा रफी के नाम से मशहूर सौरभ को वैसे किसी गायक की नकल उतारना बिल्कुल पसंद नहीं है। वह कहते हैं, मेरा मानना है कि मेरी अपनी एक अलग आवाज है और महान मोहम्मद रफी संग तुलना किए जाने लायक मुझमें कुछ भी नहीं है। मैं अभी भी सीख रहा हूं और मुझे काफी लंबा सफर तय करना है।

केरल के कोझिकोड में रहने वाले सौरभ न केवल रफी के गानों से प्रेरित हैं, बल्कि वह उनके व्यक्तित्व व इंसानियत से भी काफी प्रभावित हैं।

सौरभ का कहना है, यह शायद इंसानों, खासकर जरूरतमंदों को समझने की उनकी काबिलियत है, जिसकी झलक उनके गानों में मिलती है। वह एक गजब के इंसान थे और उनकी दयालुता से संबंधित मैंने कई कहानियां भी सुन रखी हैं। रफी साहब ने संगीत की दुनिया में जिस मुकाम को हासिल किया है, मैं उसका एक कोना भी कभी नहीं छू सकता। मैं उनकी जिंदगी के हर एक पहलू से कुछ न कुछ सीखना चाहता हूं। मैं मेहनत कर रहा हूं और शायद इसी से रफी साहब की एक हल्की सी झलक मुझमें देखने को मिल रही है।

एएसएन/एसजीके



.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.
.
...
No shot of success: Chhota Rafi of Kerala
.
.
.


from दैनिक भास्कर हिंदी https://ift.tt/32RNCKd
via IFTTT

No comments